ऑडियो

स्वर्ग के राज्य में और स्वर्गीय पिता और माता की बांहों में
वापस जाने तक, हम में से हर एक के पास अपना खुदका क्रूस है
जिसे हमें उठाना है और निर्मल होने की प्रक्रिया है
जिसे हमें लेने की जरूरत है।
निर्मल होने की प्रक्रिया के साथ दर्द होता है
क्योंकि यह हमारी आत्मिक अशुद्धताओं को निकालना है।
परन्तु, हमें उस दर्द पर जय पाना चाहिए और परमेश्वर से
प्रार्थना करते हुए सही मार्ग पर जाने का प्रयास करना चाहिए।
(यीशु ने प्रलोभनों पर जय पाने का नमूना दिखाया।)